सीरवी समाज - ब्लॉग

Result : 46 - 58 of 58   Total 4 pages
Posted By : Posted By seervi on 31 Jul 2019, 06:12:32
जब पति-पत्नी मानसिक रूप से एक दूसरे से घृणा करने लगे, तो वे एक छत के नीचे कब तक और कैसे रह सकते हैं? तलाक बुरा नहीं है, उसकी प्रकिया बुरी है, उसके आगे पीछे का समय असहनीय होता है। फिर लंबी प्रकिया के बाद दोनों परिवार टूट जाते हैं, एक दूसरे को नीचा दिखाने के चक्कर में। इस कहानी के माध्यम से तलाक की प्रकिया को आसान बनाने की प्रयास किया गया है। किसी ने ठीक ही कहा है –

“खुशी बाँटने के लिए हजारों लोग आपको मिल जाएंगे, लेकिन दुःख में आप के साथ आसूँ बहाने वाले शायद ही मिल पायें।”

दोस्तों प्रतिदिन हम आप ज्योहीं अखबार के पन्ने पलटते हैं पाते हैं अखबार का दो से तीन पेज घरेलू हिंसा के खबरों से पटा रहता है, कहीं पति ने पत्नी का क़त्ल किया, कहीं पत्नी ने पति का। कहीं दोनों परिवार एक दूसरे पर केस डाल दिया, तो कहीं पत्नीं अपने बच्चों समेत ट्रेन से कट गई। ज्यादातर मामले पति पत्नी के संबंधों से जुड़ा रहता है, चाहे कारण दहेज हो या अन्य। टीवी न्यूज चैनल भी इसी तरह की ख़बरें दिखाते रहते हैं। आप समझ लीजिए ये घटनाएं अचानक नहीं होती, इसकी पृष्ठभूमि कई महीने या साल पहले लिखी गयी हो..
Posted By : Posted By seervi on 31 Jul 2019, 05:50:21
नयी पीढ़ी में रिश्तों के मायने और संस्कार !
रिश्तों की अपनी अहमियत होती है और जरूरी है कि हम उस रिश्ते की मर्यादा को समझे और अपने आने वाली पीढ़ी (माँ बाप अपने बच्चो के लिए )को भी समझाएं। ईट-पत्थरों की दीवारों में जब रिश्तों का एहसास पनपता है तभी वह घर कहलाता है।
आज की high profile और भागदौड भरी जिंदगी में हम रिश्तों की अहमियत को भूलते जा रहे हैं। हमारी busy लाइफ हमे रिश्तों से दूर कर रही है। इसका उसर बच्चो पर भी पडता है। तभी तो आज के बच्चे रिश्तों की अहमियत को बहुत कम समझते है।
जब बच्चा पैदा होता है तो उसके जन्म से ही उसके साथ कई रिश्ते जुड जाते हैं। लेकिन इन रिश्तों में से कितने ऎसे होते हैं जिन्हें वे निभा पातें हैं।
ऎसा इसलिए नहीं कि बच्चों को उन रिश्तों की अहमियत का नहीं पता बल्कि इसलिए कि क्योंकि माँ बाप खुद उन रिश्तों से दूर हैं।
बच्चों में संस्कार की नींव माता-पिता द्वारा ही रखी जाती है। अगर माता-पिता ही रिश्तों को तवज्जो नही देते तो बच्चे तो इन से अनजान रहेंगे ही।

आज समाज संयुक्त परिवार का प्रचलन घटता जा रहा है

संयुक्त परिवार में बच्चा दादा-दाद..
Posted By : Posted By seervi on 30 Jul 2019, 05:02:28
ये कैसा इश्क

ट्रैन के ए.सी. कम्पार्टमेंट में मेरे सामने की सीट पर बैठी लड़की ने मुझसे पूछा" हैलो, क्या आपके पास इस मोबाइल की पिन है??"

उसने अपने बैग से एक फोन निकाला था, और नया सिम कार्ड उसमें डालना चाहती थी। लेकिन सिम स्लॉट खोलने के लिए पिन की जरूरत पड़ती है जो उसके पास नहीं थी। मैंने हाँ में गर्दन हिलाई और सीट के नीचे से अपना बैग निकालकर उसके टूल बॉक्स से पिन ढूंढकर लड़की को दे दी। लड़की ने थैंक्स कहते हुए पिन ले ली और सिम डालकर पिन मुझे वापिस कर दी।

थोड़ी देर बाद वो फिर से इधर उधर ताकने लगी, मुझसे रहा नहीं गया.. मैंने पूछ लिया"कोई परेशानी??"

वो बोली सिम स्टार्ट नहीं हो रही है, मैंने मोबाइल मांगा, उसने दिया। मैंने उसे कहा कि सिम अभी एक्टिवेट नहीं हुई है, थोड़ी देर में हो जाएगी। और एक्टिव होने के बाद आईडी वेरिफिकेशन होगा उसके बाद आप इसे इस्तेमाल कर सकेंगी।

लड़की ने पूछा, आईडी वेरिफिकेशन क्यों??

मैंने कहा" आजकल सिम वेरिफिकेशन के बाद एक्टिव होती है, जिस नाम से ये सिम उठाई गई है उसका ब्यौरा पूछा जाएगा बता देना"

लड़की बुदबुदाई "ओह्ह"

मैंने दिलासा देते ..
Posted By : Posted By seervi on 29 Jul 2019, 03:35:56
।।मेरा समाज ,मेरा गौरव।।
सीरवी समाज की उत्पत्ति जिस मूल शब्द "सीर" से हुई है।वह अपने आपमे सब बया कर जाता है कि समाज के लोगों के दिलों में कैसी भावनाए है?समाज की सोच कैसी है?सीरवी समाज अपने प्रारम्भिक काल से जिस विराट सहृदयता को लेकर आगे बढ़ा, आज भी वे भावनाएं हमे दिखाई देती है।एक दूसरे का सहयोग करना औऱ ईमानदारी से साथ देना,किसी के साथ धोखा न करना यह अपने आपमे बड़ी बातें है।यही सीरवी समाज जिसे अधिकांश लोग चौधरी भी कहते है।अन्य जातियां सब हमारे समाज के बारे में किसी मौके या आपस के मेल-मिलाप में कहते है कि,"चौधरी समुन्दर बाकी सब नाडा"इसका भाव यह है कि सीरवियों का दिल बड़ा है,यहां हर कोई खट सकता है।जिस प्रकार समुन्दर अपनी विशाल सहृदयता के लिए जाना जाता है,उसमें गहराई होती है।वैसी ही विशाल सहृदयता औऱ गहराई सीरवियों में देखने को मिलती है।
हम तो कहते है कि,
"जिस समाज मे जन्मे है हम,वह हमारे लिए बड़ा है।
अहो,देखो समाजहित करने के लिए कितना कर्मक्षेत्र पड़ा है।"
हम सभी सीरवी समाज की उन तमाम अच्छाइयों पर नजर दौड़ाए जिनके बारे में आप चिंतन करे तो मन को बड़ा सुकून मिलता ह..
Posted By : Posted By seervi on 27 Jul 2019, 08:06:57
"तमसो मा ज्योतिर्गमय"

अर्थात अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाओ, यह प्रार्थना भारतीय संस्कृति का मूल स्तंभ है - प्रकाश में व्यक्ति को सब कुछ दिखाई देता है अंधकार में नहीं l
यहां प्रकाश का तात्पर्य ज्ञान से है, और ज्ञान से व्यक्ति का अंधकार नष्ट होता है, उसका वर्तमान और भावी भविष्य का जीवन जीने योग्य बनाता है l
इसी को आधार मानते हुए बिलाड़ा में "रानी देवेंद्र कुमारी पब्लिक स्कूल" की स्थापना इस्वी संवत 2000 में बिलाड़ा में स्थित श्री आईमाताजी के पवित्र मंदिर प्रांगन के पास स्थित माननीय श्री दीवान माधव सिंह के आवास परिसर में स्थित है, विशालकाय निर्माण से आछंडित इस परिसर में शिक्षा के आयामों को केंद्र में रखते हुए स्वयं श्रीमुख श्री दीवान माधव सिंह एवं उनकी छोटी बहिन (श्रीमती मोहन कंवर जाडेजा) द्वारा इस्वी संवत 2000 में बाड़ी महल (नजर बाग़) में स्थापित किया गया l जो कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के नियमानुसार मान्यता प्राप्त है l
पूर्व दीवान स्व. श्री हरी सिंह जी को शिक्षा के महत्व की जानकारी देश की आजादी से भी बहुत पहले से थी, उनके अनुसार आने वाला भव..
Posted By : Posted By seervi on 26 Jul 2019, 05:39:54
#कलम की ताकत औऱ परिवर्तन#
आज मुझे एक पोस्ट से ऐसा लिखने को विवश किया कि," उठा,अपना मोबाइल औऱ मन के विचारों तथा भीतर से गा ले गीत सच्चाई का।"
कहते है कि,
"जिस दिन फूटेगा भीतर से,गीत सच्चाई का।
बन जायेगा कीर्तिमान,नव मानव की ऊँचाई का।

आत्म दीप की एक किरण ने,जब-जब तम को ललकारा।
प्रकट हो गया सत्य धरा पर,वही ज्ञान की गंगा धारा।।"
सच्चाई का गीत जब भीतर से प्रस्फुटित होता है तो वह न जाने कितने लोगों के मन को तरंगित कर जाता है। विचार मन को सही राह दिखाता है। सच्चे और अच्छे विचारों से जीवन की दशा औऱ दिशा दोनों बदल जाती है।विश्व की जितनी क्रांतियां हुई है ,उसके पर्दे के पीछे देखेंगे तो उस देश के साहित्यकारों की कलम की ताकत है।कलम की ताकत तलवार की ताकत से बलशाली होती है।विश्व में ईसाई धर्म का प्रचार-प्रसार एक कलम की ताकत से ही हुआ है।जैन धर्म का जो सबसे सुंदर स्वरूप देख रहे हो ,वह उनके समृद्ध साहित्य के ही कारण है।उनके जितने तीर्थंकर या धर्म प्रवर्तक संत हुए है उन्होंने अपने साहित्य से धर्म को नई दिशा प्रदान की है।
सीरवी समाज का भी अपना एक पंथ है जिसे हम श्री आ..
Posted By : Posted By on 24 Jul 2019, 12:36:25
सीरवी समाज विकास सेवा समिति द्वारा जारी सामाजिक सुधारों के दिशा निर्देशों के प्रति मेरे निजी विचार

सीरवी समाज विकास समिति बिलाड़ा के द्वारा पिछले पचास सालों से चल रहे समाज सुधार के परिपेक्ष में वर्तमान समय की मांग को देखते हुए चाहे गये बिन्दुओं पर सहमत / असहमत का बिन्दु वार उत्तर एक नजर में

1. सहमत - सोब 50/-
2. सहमत - ओरना 100/-
3. सहमत - वेष 200/-
4. सहमत , डीजे बन्द हो
5. असहमत - कोण की बैठकों में भोजन पूरा बन्द होना चाहिये।
कोण की बैठकों में मुश्किल से 10 या 20 मिनट का समय ही लगता हैं ज्यादा समय पेट पूजा में लगता हैं।

अतिविशेष परिस्थितियों में 50 किलोमीटर से ज्यादा दूरी से आने वाले विशेष मेहमान जिनका 4 घंटे से अधिक समय तक रूकना आवश्यक हैं
दोपहर के भोजन की व्यवस्था की जा सकती हैं। अन्यथा बिल्कुल नहीं हो।
6. असहमत - भाईपा के सदस्य जिनका दिनभर रूकना आवश्यक है उनके लिए सिर्फ दोपहर के भोजन की व्यवस्था की जा सकती हैं।
7. सहमत - पीहर व ससुराल पक्ष का ही ओरना हो
8. सहमत - काँचली की जगह सिर्फ 10/- रुपये।
9. सहमत - बहन या सहासणी को केवल ओरना औडाना, वेष नहीं हो।
..
Posted By : Posted By seervi on 23 Jul 2019, 04:25:30
#"सामाजिक एकता औऱ समरसता" तथा सीरवी समाज#
सीरवी समाज का अपना गौरवपूर्ण इतिहास रहा है।सीरवी समाज के लोगों ने अपने सामाजिक प्रतिमानों,उच्च आदर्श मूल्यों औऱ सच्चे व्यवहारवादी आचरण से हर कौम के लोगों का दिल जीता है।यह हम अपने व्यक्तिगत अनुभव औऱ अपने बड़े बुजुर्गों के कथनों से तथा औरों से श्रीमुख से सुनकर कह रहे है।इन तथ्यों में सत्यता औऱ यथार्थता है।प्राचीन काल में धनी लोगो को अपने यहाँ नौकरी या काम पर रखना होता तो सबसे ज्यादा प्राथमिकता सीरवी समाज के लोगों को ही देते थे।आर्थिक रूप से लेन-देन करना होता तो भी लोग बेझिझक व्यवहार करते थे।सीरवी समाज के लोगों को सदा ईमानदार,मेहनतकश औऱ सरल स्वभाव के रूप में जाना करते थे। उन्ही आदर्श मूल्यों औऱ सामाजिक प्रतिमानों पर चलकर हमने महाजनों से व्यवसायिक शिक्षा प्राप्त की औऱ आज भारत के लगभग हर शहर में सीरवी समाज के लोगों ने उन्ही आदर्श प्रतिमानों औऱ मूल्यों से प्रगति का मुकाम हासिल किया है। यह सब हमारे पुरखो की महान विरासत का सुखद परिणाम है।आज सीरवी समाज तीव्र गति से आर्थिक उन्नति कर रहा है।
हमारे पुरखों के म..
Posted By : Posted By seervi on 22 Jul 2019, 04:41:48
दुनिया के भ्रष्टाचार मुक्त देशों में शीर्ष पर गिने जाने वाले न्यूजीलैंण्ड के एक लेखक ब्रायन ने भारत में व्यापक रूप से फैंलें भष्टाचार पर एक लेख लिखा है। ये लेख सोशल मीडि़या पर काफी वायरल हो रहा है। लेख की लोकप्रियता और प्रभाव को देखते हुए विनोद कुमार जी ने इसे हिन्दी भाषीय पाठ़कों के लिए अनुवादित किया है। –

न्यूजीलैंड से एक बेहद तल्ख आर्टिकिल।

भारतीय लोग होब्स विचारधारा वाले है (सिर्फ अनियंत्रित असभ्य स्वार्थ की संस्कृति वाले)

भारत मे भ्रष्टाचार का एक कल्चरल पहलू है। भारतीय भ्रष्टाचार मे बिलकुल असहज नही होते, भ्रष्टाचार यहाँ बेहद व्यापक है। भारतीय भ्रष्ट व्यक्ति का विरोध करने के बजाय उसे सहन करते है। कोई भी नस्ल इतनी जन्मजात भ्रष्ट नही होती

ये जानने के लिये कि भारतीय इतने भ्रष्ट क्यो होते हैं उनके जीवनपद्धति और परम्पराये देखिये।

भारत मे धर्म लेनेदेन वाले व्यवसाय जैसा है। भारतीय लोग भगवान को भी पैसा देते हैं इस उम्मीद मे कि वो बदले मे दूसरे के तुलना मे इन्हे वरीयता देकर फल देंगे। ये तर्क इस बात को दिमाग मे बिठाते हैं कि अयोग्..
Posted By : Posted By on 21 Jul 2019, 04:36:21
सीरवी कौम एक ऐसी कौम है जिसके हर जन में "सीर"का मूल भाव समाया है। सीर का मूल अर्थ साझा है।साझा अर्थात एक दूसरे का सहयोग लेकर आगे बढ़ना। एक दूसरे की भावनाओ की कद्र करना।एक दूसरे के सुख-दुःख में साथ देना। यह कार्य हमारे पुरखों ने बड़ी दिलेरी से किया है। जब पुरातन तरीके से खेती की जाती थी,आज की तरह वे वैज्ञानिक संसाधनों या उपकरणों से युक्त नही थे। वे बैलों से खेती करते थे, पशुपालन करते थे औऱ अपनी आजीविका चलाते थे। वे कठोर मेहनती थे। उस समय संयुक्त परिवार प्रथा थी,घर-परिवार में गजब का अनुशासन औऱ मर्यादाएं थी। सब अपनी मर्यादाओं और सीमाओं से वाकिफ थे। घर-परिवार का एक ही मुखिया होता था, उनका सब कड़ाई से पालना करते थे। उस समय बहुत बड़े-बड़े कुटुंब थे। ऐसे परिवार को गवारी बोलते थे। उस गवारी की बड़ी पेठ होती थी। घर-परिवार में प्रेम-सौहार्द्ध का वातावरण होता था। समाज के लोग प्रेम-सौहार्द्ध को प्रथम वरीयता देते है। यदि किसी कारणवश परिवार में विवाद की स्थिति पैदा हो जाती थी तो वे किसी मांगलिक अवसर या सामाजिक कार्य के अवसर पर समाज के लोग उनको आपस में साथ मे बैठाते थे, उनमें आप..
Posted By : Posted By जितेन्द्र सिंह राठौड़ on 21 Jul 2019, 04:02:29
सीरवी कौम एक ऐसी कौम है जिसके हर जन में "सीर"का मूल भाव समाया है।सीर का मूल अर्थ साझा है।साझा अर्थात एक दूसरे का सहयोग लेकर आगे बढ़ना।एक दूसरे की भावनाओ की कद्र करना।एक दूसरे के सुख-दुःख में साथ देना।यह कार्य हमारे पुरखों ने बड़ी दिलेरी से किया है।जब पुरातन तरीके से खेती की जाती थी,आज की तरह वे वैज्ञानिक संसाधनों या उपकरणों से युक्त नही थे।वे बैलों से खेती करते थे,पशुपालन करते थे औऱ अपनी आजीविका चलाते थे।वे कठोर मेहनती थे।उस समय संयुक्त परिवार प्रथा थी,घर-परिवार में गजब का अनुशासन औऱ मर्यादाएं थी।सब अपनी मर्यादाओं और सीमाओं से वाकिफ थे।घर-परिवार का एक ही मुखिया होता था,उनका सब कड़ाई से पालना करते थे।उस समय बहुत बड़े-बड़े कुटुंब थे।ऐसे परिवार को गवारी बोलते थे।उस गवारी की बड़ी पेठ होती थी।घर-परिवार में प्रेम-सौहार्द्ध का वातावरण होता था।समाज के लोग प्रेम-सौहार्द्ध को प्रथम वरीयता देते है।यदि किसी कारणवश परिवार में विवाद की स्थिति पैदा हो जाती थी तो वे किसी मांगलिक अवसर या सामाजिक कार्य के अवसर पर समाज के लोग उनको आपस में साथ मे बैठाते थे,उनमें आपस में प..
Posted By : Posted By जितेन्द्र सिंह राठौड़ on 20 Jul 2019, 08:13:30
जीवन में ज्ञान और प्रेरणा कहीं से भी एवं किसी से भी मिल सकती है। मित्रों आज मैंने एक कविता पढ़ी , पढकर लगा कि प्रकृति ऐसे अंनत कारणों से भरी हुई है, जो हमें सिखाती है कि जीवन हरपल आनंद से सराबोर है। नदियों का कल कल करता संगीत, झूमते गाते पेङ, एवं छोटे छोटे जीव हमें सिखाते हैं कि जीवन को ऐसे जियो कि जीवन का हर पल खुशियों की सौगात बन जाये।
मैं आपके साथ भी वह कविता बांटना चाहुँगा ! !
कुकङु कू कहता मुर्गा, जागो जागो ओ नादान
शीध्र सवेरे उठने वाला, पाता है बल विद्यामान।
कू-कू करती कहती कोयल, मीठी बात हमेशा बोल
मेल जोल ही बङी चीज है, कभी न लेना झगङा मोल।
चीं-चीं करती कहती चिङिया हमको बारंबार
संघटन में शक्ती है बङी, दुश्मन जाता जिससे हार।
उपरोक्त कविता में कितनी आसानी से जीव जंतुओं ने अपनी अच्छाईयों से जीवन को संवारने का संदेश दिया है। ऐसे कई जीव हैं जो हमे सकारात्मक जीवन की प्रेरणा देते हैं। कुनबे के साथ रहने वाली चींटी, संर्घष और मेहनत का सजीव उदाहरण है। हिम्मत करने वालों की हार नही होती के माध्यम से चीटियों के संर्घष को बहुत ही खूबसूरती से परिलाक्षित किया..
Posted By : Posted By Jitender Singh Bilara on 20 Jul 2019, 06:41:58
जहा तक मेने पढ़ा है समाज की अवधारणा किताबो में लेखको ने बड़ी ही क्लिस्ठ भाषा में समझाई, एक आम मस्तिस्क इतनी कठिन भाषा को समझ कर वास्तविकता के धरातल को समझने में अपना जीवन व्यतीत नहीं करता, उसके लिए समाज एक समूह है, जहा उसके आस पास उसके अपने उसे जानने वाले या जान सकने वाले मनुष्यों का जमावड़ा हो l कई मायनों में जब मेने देखा की जिसे में समाज मानती हु उस समाज की व्यापाकता के न नियम होते है न निर्देश, मेरी जैसी कामकाजी महिला के लिए मेरा घर, परिवार, चौक चोराहे से होते हुए बस स्टैंड, बस और मेरा कामकाजी क्षेत्र मेरा समाज है l यह समाज के अलग अलग स्त्रोत है और इस में अभिनय करने वाले चेहरे भले ही अलग अलग हो किन्तु मानसिकता लगभग एक जैसी होती है, फिर किसी ने मुझे यह महसूस कराया की समाज को हम किसी दायरे में नहीं बाट सकते l यह धरती हमारा मानव समाज है, यह देश हमारा रास्ट्रीय समाज है, यह राज्य हमारा भोगोलिक समाज है, यह जिला हमारा प्रशाशनिक समाज है, यह नगर गाँव हमारा आश्रय समाज है, यह परिवार मेरी सुरक्षा का समाज है l इस सभी समाजो में अपने अस्तित्व को ढूंडते हुए मुझे अपने जीवन की तमाम उपल..
Result : 46 - 58 of 58   Total 4 pages