सीरवी समाज - http://www.seervisamaj.com - ब्लॉग

Result : 1 - 15 of 31   Total 3 pages
Posted By : Posted By Raju Seervi on 26 Mar 2021, 01:14:39
मेरे सभी वन्दनीय बंधुजन-बहनों,
सादर वन्दे!
जय माँ श्री आईजी सा। सीरवी समाज की वेबसाइट "सीरवी समाज डॉट कॉम परिवार" की और से आप सभी का दिल की अन्तरंगता सु हार्दिक वन्दन-अभिनन्दन ।
समाज के समस्त सीरवी बन्धुओं, वरिष्ठ नागरिकों एवं अनुज भाई बहनों, वेबसाइट के विज्ञापन दाताओं, रचनाकारों, वेबसाइट प्रतिनिधियों तथा समस्त वेबसाइट स्टाफ को रंगों के पावन पर्व होली महोत्सव की दिल से हार्दिक बधाई एवं मंगलमय जीवन की अनेकानेक शुभकामनायें।
परमपिता परमेश्वर से प्रार्थना है कि उत्तरायण का सूर्य आप सबकी जिन्दगी में अपरम्पार खुशियों की नव किरणें बिखेरे और सुख-शान्ति को आपके जीवन में स्थिरता प्रदान करे।
बंधुओं, समाज सेवा निश्चित ही कड़ी साधना है। यदि आप सच्चे समाज सेवी है तो बिना फल की चिंता किये अपना निस्वार्थ भाव से कार्य कीजिए। आपके मन में सेवा भावना होनी चाहिए, दिखावा नहीं। समाज सेवा हेतु किसी शैक्षिक संस्था के डिग्री की कोई जरूरत नही है और न ही किसी सरकारी पद की। आप स्वयं देख लें जितने संत महात्मा हुये है वे कोई ज्यादा पढ़े लिखे लोग नही है लेकिन उमने सेवा भ..
Posted By : Posted By Raju Seervi on 13 Mar 2021, 14:08:52
आदरणीय आत्मीय जन
सादर अभिवादन।

आप फेसबुक या व्हाट्सएप समूहों में एक चित्रकार की कहानी अवश्य पढ़ी होगी जो एक चित्र बनाकर चौराहे पर इस आशय से टांग दिया कि इसमें जो कमियां हों, निशान लगा दे। सुबह से शाम तक हजारों निशान अपने ज्ञान को प्रदर्शित करने हेतु लग गये। परन्तु उसी चित्र को हूबहू उस आशय से दूसरे दिन टांगा गया कि इसमें जो कमियाँ हो, उसे सुधार देवें तो दो दिन तक उसमें कोई सुधार नहीं किया गया। इससे यह सीख़ तो मिलती है कि कमियाँ निकालने वाले खूब है; समाधान या सुधार का रास्ता सुझाने वाले बिरले ही हैं।

ठीक उसी तरह हमारे समाज की भी हालत है। अपनी कमी ढूंढने के बजाया दूसरों की कमियाँ को ढूंढ-ढूंढकर उसे छोटा या अपराधी बनाने या अपमानित कर अपने को ज्ञानी एवं बड़ा तथा अनुभवी एवं न्यायप्रिय एवं निष्पक्ष प्रदर्शित करने की होड़ सी लगी है परन्तु आत्मीय समाधान सुझाने वालों की कमी सी लगती है। यह प्रमाणित है कि गलतियाँ उसी से होंगी जो काम करेगा, जो कुछ करेगा ही नहीं, वह दूसरे की कमी निकालकर ही अपनी कमी जाहिर कर देता है। अच्छे लोगों में भी कमियाँ है तथा बुरे लोगों में..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 19 Jan 2021, 11:06:03
एक आदमी था, जो हमेशा अपने संगठन में सक्रिय रहता था, उसको सभी जानते थे ,बड़ा मान सम्मान मिलता था; अचानक किसी कारण वश वह निष्क्रीय रहने लगा , मिलना - जुलना बंद कर दिया और संगठन से दूर हो गया।

कुछ सप्ताह पश्चात् एक बहुत ही ठंडी रात में उस संगठन के मुखिया ने उससे मिलने का फैसला किया । मुखिया उस आदमी के घर गया और पाया कि आदमी घर पर अकेला ही था। एक बोरसी में जलती हुई लकड़ियों की लौ के सामने बैठा आराम से आग ताप रहा था। उस आदमी ने आगंतुक मुखिया का बड़ी खामोशी से स्वागत किया।

दोनों चुपचाप बैठे रहे। केवल आग की लपटों को ऊपर तक उठते हुए ही देखते रहे। कुछ देर के बाद मुखिया ने बिना कुछ बोले, उन अंगारों में से एक लकड़ी जिसमें लौ उठ रही थी (जल रही थी) उसे उठाकर किनारे पर रख दिया। और फिर से शांत बैठ गया।

मेजबान हर चीज़ पर ध्यान दे रहा था। लंबे समय से अकेला होने के कारण मन ही मन आनंदित भी हो रहा था कि वह आज अपने संगठन के मुखिया के साथ है। लेकिन उसने देखा कि अलग की हुई लकड़ी की आग की लौ धीरे धीरे कम हो रही है। कुछ देर में आग बिल्कुल बुझ गई। उसमें कोई ताप नहीं बचा। उस लकड़ी ..
Posted By : Posted By Raju Seervi on 11 Jan 2021, 01:12:55
हमें अपने समाज पर गर्व है

प्रिय बंधुओं
आप सभी का सादर अभिवादन है

आप सभी को मकर सक्रांति, गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई व शुभकामनायें। हमारे वरिष्ठजनों ने अपनी मेहनत, लगन और सामाजिक सेवा से समाज को आज इस स्तिथि में ला दिया है कि हम आज अन्य समाजों में सर्वाधिक आदर की दृष्टि से देखे जाते हैं। यह हमारे प्रयासों का फल है।

हमारा मूल उद्देश्य ही जन सेवा है। सेवा भाव ही किसी समाज का प्राण तत्व होता है। ये समाज है, अगर आपने सच्चे मन से जन सेवा कि है तो निश्चत ही जन सामान्य उसे सराहेगा।

बंधुओं, समाजसेवा निश्चित ही एक कड़ी साधना है। यदि आप सच्चे समाजसेवी हैं तो बिना फल को सोचे, अपना कार्य निरन्तर करते हुए अपना अनुभव समाज सहयोग में करते जाएं। संत कबीरदास, रहीम, तुलसीदास आदि लोग कौन ज्यादा पढ़े-लिखे थे लेकिन इन लोगों ने समाज और देश को राह दिखाई, जनता की आँखे खोली, अपने समाज हित के कार्यों से ऊपरी चमक दमक कोई मायने नहीं रखता।

जो बोते हैं, उन्हीं को काटने का अवसर भी प्राप्त होता है। जो जैसा बोता है, उसी के अनुसार उसको वैसा ही चाकने को मिलता है। इसी तरह प्..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 08 Jan 2021, 06:01:49
सीरवी समाज के सभी दानवीर महानुभावों और समाजसेवियों को मेरा सादर चरण वन्दन सा
जय माँ श्री आईजी सा।
यह पोस्ट लिखते हुए मुझे गर्व होता है कि अपना समाज अपने नाम में समाहित "सीर" शब्द की सार्थकता की दिशा में तेज गति से बढ़ रहा है।यह भावना समाज को नव ऊंचाईयां प्रदान करेगी,ऐसा मुझे विश्वास है। समाज के लोगो मे दान की प्रवृति में गजब का अर्पण और उत्साह देखने को मिलता है। आज समाज में जहां देखो वहाँ कुछ न कुछ नया हो रहा है। समाज के लोगो की दान की अच्छी प्रवृति के कारण ही सांस्कृतिक धरोहर के रूप में माँ श्री आईजी के धाम "वडेर" बन रहे हैं।शिक्षा मंदिर और छात्रावास बन रहे हैं।जगह-जगह गौ-शाला में समाज के बंधुजन अपनी महत्ती भूमिका निभा रहे है। बड़ी वडेरों में नियमित भोजन शाला का संचालन हो रहा है। अपनी मातृभूमि के विद्यालयों में उदार दिल से योगदान कर रहे हैं। समाज के धनी वर्ग विराट सोच और विशाल सहृदयता से आर्थिक रूप से विपन्न बंधुजनों की मदद कर रहे हैं।आज श्री आईजी सेवा समिति,सीरवी किसान सेवा समिति ,संस्कार केंद्र और अन्य ट्रस्ट जैसे श्री आईजी बालिका फाउंडेशन इस दिशा ..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 08 Jan 2021, 06:00:45
जिसने भी लिखा कमाल का लिखा है..

पांचवीं तक स्लेट की बत्ती को जीभ से चाटकर कैल्शियम की कमी पूरी करना हमारी स्थाई आदत थी लेकिन इसमें पापबोध भी था कि कहीं विद्यामाता नाराज न हो जायें...

पढ़ाई का तनाव हमने पेन्सिल का पिछला हिस्सा चबाकर मिटाया था..

पुस्तक के बीच पौधे की पत्ती और मोरपंख रखने से हम होशियार हो जाएंगे ऐसा हमारा दृढ विश्वास था..

कपड़े के थैले में किताब कॉपियां जमाने का विन्यास हमारा रचनात्मक कौशल था..

हर साल जब नई कक्षा के बस्ते बंधते तब कॉपी किताबों पर जिल्द चढ़ाना हमारे जीवन का वार्षिक उत्सव था..

माता पिता को हमारी पढ़ाई की कोई फ़िक्र नहीं थी.. न हमारी पढ़ाई उनकी जेब पर बोझा थी.. सालों साल बीत जाते पर माता पिता के कदम हमारे स्कूल में न पड़ते थे ।

एक दोस्त को साईकिल के डंडे पर और दूसरे को पीछे कैरियर पर बिठा हमने कितने रास्ते नापें हैं , यह अब याद नहीं बस कुछ धुंधली सी स्मृतियां हैं..

स्कूल में पिटते हुए और मुर्गा बनते हमारा ईगो हमें कभी परेशान नहीं करता था , दरअसल हम जानते ही नही थे कि ईगो होता क्या है ?

पिटाई हमारे दैनिक जीवन की सहज..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 07 Jan 2021, 05:50:45
सीरवी समाज के यूवा साथियों को मेरा सादर नमस्कार।

जय माँ श्री आईजी सा।
मैं देख रहा हूँ कि समाज के युवाजन अपनी खोई हुई शक्ति को संगठित कर रहे हैं।वे अपने भीतर की ऊर्जा की महत्ता को जान रहे हैं। जिस समाज-राष्ट्र का युवा अपनी अंतर्निहित ताकत-क्षमता-ऊर्जा को समझ लेता है,उस समाज व राष्ट्र का उत्थान हो जाता है। कहते है कि यूवा शक्ति देश और समाज की रीढ़ होती है. युवा देश और समाज को नए शिखर पर ले जाने की सामर्थ्य रखते हैं। युवा समाज-राष्ट्र का वर्तमान हैं, तो भूतकाल और भविष्य के बीच का मजबूत सेतु भी युवा ही हैं।इसी मजबूत सेतु से हम बड़ी से बड़ी मंजिल को पा सकते है। युवा राष्ट्र-समाज के जीवन मूल्यों के प्रतीक हैं।  युवा गहन ऊर्जा और उच्च महत्वकांक्षाओं से भरे हुए होते हैं. उनकी आंखों में भविष्य के इंद्रधनुषी स्वप्न होते हैं। समाज को बेहतर बनाने और राष्ट्र के निर्माण में सर्वाधिक योगदान युवाओं का ही होता है।
मुझे अपने समाज के युवाओं की शक्ति-क्षमता-ऊर्जा पर पूर्ण भरोसा है,लेकिन मंजिल केवल भरोसे से ही नही पाई जा सकती है। मंजिल को पाने के लिए बहुत सी विधाओं की आवश..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 01 Jan 2021, 14:31:19
ना अब और नहीं युवा पीढ़ी

घूम रहा है युवा नशे में...
पागलपन सा छाया है...
मदहोशी में उसके लिए ना कोई अपना ना कोई पराया...
शराब, तम्बाकू, गुटखे ने उसके मन पर काबू पाया है...
आज नशे की प्रवृत्ति ने मैला समाज...ना जाने क्यों नहीं हो रहा है लोगो को इनका एहसास...
जो था कल का उजाला...नशे में उसका जीवन अंधकार में कर डाला है...
शराब तो एक बहाना हो गया...
घर वालों से छुपकर धुँवा उड़ाना हो गया है...
अब ना जाने कोन युवा को समझाये...
यू ही इनका जीवन अंधकार में ...
ना जाने क्यों इस नशे की प्रवृत्ति को समाज ने अपनाया...
2 मिनट के मजे के लिए जीवन है बर्बाद कराया...
माता पिता ने पैसे दिए सोचा उज्ज्वल रहेंगे...
उनको क्या पता कि पेप्सी की जगह शराब पियेंगे...
युवावों ने नशे में सपनों का महल ढ़हाया...
लेकर कर्ज उसने गिरवी अपना मकान रखवाया...
शोक शौक में सिरगेट का धुँवा उड़ाया...
मण्डली में अपनी धाक जमाने धुँवा फिर से उड़ाया...
मीठे जहर की बोतल ने....
घर परिवार को पर सड़क पर लाया है...
होश में आया जब मानव तो अपना शरीर ही खोया...
अभी सम्बल जा ए मानव तू...
ये शौक नहीं बर्बादी है...बर्बादी हैं..!

निति..
Posted By : Raju Seervi on 11 Dec 2020, 14:36:35
*सीरवी समाज में महिलायें सामाजिक स्तर पर जो सकारात्मक विचार धारा रखकर सामाजिक कार्य कर रही हैं, उन्हें प्रोत्साहन देना चाहिये*

सीरवी समाज में महिलायें सामाजिक स्तर पर जो सकारात्मक विचार धारा रखकर सामाजिक कार्य कर रही हैं, उन्हें प्रोत्साहन देना चाहिये। जिनका प्रयास सराहनीय है, उनके कार्य की प्रशंसा करना स्वार्थ सिद्धि नहीं, बल्कि सच्चाई को उजागर करना होता है। समाज में बढ़ती हुई द्वेष की भावना से प्रेरित प्रतिस्पर्धा को खत्म करना जरुरी हो गया है। सामाजिक स्तर पर व्यक्तिगत एवं सामूहिक द्वेष की भावना को भुलाकर एकजुट होकर समाज की उन्नति एवं उत्थान के लिये प्रयास करें। यह वक्त की माँग है। जैसे किसी भारी बोझ को उठाने के लिये दो हाथ की बजाय दस हाथ तथा दस हाथ के बजाय सौ हाथ सहायक होते हैं। उसी तरह सामाजिक कुरीतियों से दबे बोझ को उठाने के लिये सकारात्मक सोच भरे सौ हाथ जरुरी हैं।

सर्वप्रथम अपने मन में दबी हीनता की भावना को निकालकर दूर फेंकें। अपने में दबी प्रतिभा को उजागर करके, सामूहिक प्रयास से, समाज में फैली अज्ञानता की धूल को पोंछा डालें एवं नय..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 04 Dec 2020, 01:48:33
कोरोना की वेक्सीन हम ही

जैसे हर निखरती चीज सोना नहीं होता,,,,
वैसे हर खासी का मतलब कोरोना नहीं होता,,,,!
केवल जल्दी जल्दी में हाथ धोना,हाथ धोना नहीं होता,,,
30 सेकंड साबुन से हाथ धोने से कोरोना नहीं होता,,,,!
कोरोना वॉयरस का इलाज जादु टोना नहीं होता,,,,
साफ सफाई रखने से कोरोना नहीं होता,,,,!
कोरोना काल मे बस हमें सावधानी रखनी,,,,
मास्क, सेनेटाइजर, 2 गज की दूरी से कोरोना नहीं होता,,,,!
सावधानी रखना, जागरूकता रखने के बाद में रोना नहीं होता,,,
भीड़ भाड़ से दूर रहने से कोरोना नहीं होता,,,,!
लोगो से हाथ नहीं मिलाना,,,नमस्कार करने वालो को कोरोना नहीं होता,,,,!
समय रहते सचेत हो जाये तो अपनों को खोना नहीं होता,,,बीमार स्वयंम आइसोलेशन हो जाये तो अन्य लोगो को कोरोना नहीं होगा,,,,!!!

नितिन परिहार पुत्र चुतराराम
बेरा आसन की भडेट जेलवा बिलाड़ा
बीए बीएड
वर्तमान आरएएस अध्ययन्तर..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 03 Dec 2020, 05:45:27
श्री गणेशाय नमः
जय माता जी री मेरे समाज के सभी प्रिय बंधुओं पिता तुल्य बुजुर्गो और युवाओं मैं आपके समक्ष में मेरे अपने विचार रखने जा रहा हूं कृपया उस पर ध्यान दें और अपने जीवन में बदलाव के लिए अपनी समाज में बदलाव के लिए अपने समाज में विकास के लिए अपने समाज की प्रगति के लिए हमारे धर्म के विस्तार के लिए अपने निजी स्वार्थ से ऊपर उठ कर समाज के कल्याण के लिए दूरदर्शिता का परिचय देते हुए ध्यान देने की कृपा करें मैं एक सामान्य नागरिक क्षत्रिय खराडिया सीरवी समाज का बेटा आपका छोटा भाई आप सभी को जय माता जी री और आप सभी को मेरा दंडवत प्रणाम साहब हमें कुछ बड़ा करने का सोचना चाहिए जब हम कुछ सोचेंगे तो उसका असर अपने मन पर पड़ता है और मन का प्रभाव तन पर पड़ता है और तन और मन का प्रभाव अपने जीवन पर पड़ता है इसके लिए हमें अच्छी सोच रखनी चाहिए समाज के हर व्यक्ति को समाज के लिए कुछ करने का जज्बा रखना चाहिए यह हमारे समाजसेवी रामलाल जी सेणसा गांधीधाम वाले बा साहब ने कहा था वह मुझे बहुत ही अच्छा लगा इसके लिए यह यहां पर प्रयोग किया
*मेरी एक रिक्वेस्ट है कि हम सभी व्यापार करते ह..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 01 Dec 2020, 13:40:17
अपने सपने गैरो की वजह से टूटे

चाँद छिपा,सूरज ढला...
पग पग पर अरमान जगा...!
सपने टूटे गैरो की वजह से...
अरमान के नभ में निराशाओ के बादल ने घेरा...
न जाने कब होगा सवेरा...!
खोया सा रहता है दिन सारा...
जागी जागी रहती है रात...
सागर के लहरों की भांति...
छू छू कर फिर चली जाती है...
ऐसे मझधार में मेरी नैया फंसी...
गैरो की वजह से...!
जो सोचा था वो हो ना पाया...
सब सपने टूटे गैरो की वजह से...
वो अरमानों का हवाई महल
यही कही पर गिर गया...!
आखों में जो ख़्वाब दिखे...
आज वो दुसरो की वजह से ख़्वाब रह गए...
सब राहें सब सुनसान लगे...
अब मंजिल भी अनजान लगें...
मन रहता है तनहा तनहा...
सुना सुना लगता है जहान...!
टूट गया सपना मेरा...
बिखर गई आस मेरी...
आखो में सपने खो गए...
सब प्यास नजर आते है...!
अपने हुए पराये लेकिन...
गैर ना हो सके...
गैरो की बस्ती में कैसे अपनी नाव खड़ी...!!!


नितिन परिहार पुत्र चुतराराम जी
बेरा आसन की भडेट जेलवा बिलाड़ा
बीए बीएड
वर्तमान आरएएस अध्ययन्तर..
Posted By : Posted By Manohar Seervi on 01 Dec 2020, 12:06:32
आज के वर्तमान में इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन का महत्व बहुत बढ़ गया है।

आज के वर्तमान में इंटरनेट का महत्व बहुत बढ़ गया है। वह अपनी जीवनशैली में काफी कुछ बदलाव ला रहा है। जैसे कि इंटरनेट की वजह से ऑनलाइन शॉपिंग, ऑनलाइन क्लासेज, ऑनलाइन बिजनेस,बैकींग,कुकींग फिर चाहे गेम रहो वगैरे काफी कुछ फायदा हो रहा है। समय के हिसाब से हम ऑनलाइन से काफी दूर थे। ऑनलाइन शॉपिंग वाले ऑनलाइन शॉपिंग करते थे हमें सिर्फ पता था पर अभी दुनिया में एवरी टाइम काम ऑनलाइन हो रहा है। आज के युग में छोटा से बड़ा तक इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन का फायदा उठा रहे हैं। ऑनलाइन से हमको नए जमाने के साल 2020 इंटरनेट की शिक्षा देकर जा रहा है। बच्चों को ऑनलाइन क्या होता है यह भी पता नहीं था पर आज बच्चों से लगाकर बड़ो तक सब जानने लगे है ऑनलाइन के बारे में इंटरनेट के बारे में यह सब सीखा के गया है। यह एक अच्छा अनुभव सीखने को मिला जिससे काफी लोग इस अनुभव से वंचित थे। इस इंटरनेट की योग्यता का सबसे ज्यादा फायदा बच्चों को हुआ है।

आज के वर्तमान में हम देख रहे हैं कि कोरोना वायरस की वजह से हमारे जीवन में काफी क..
Posted By : Posted By गोविन्द सिंह पंवार on 07 Nov 2020, 05:19:29
मनोहर सीरवी (राठौड़) जनासनी-साँगावास (मैसूरु)
संपादक, सीरवी समाज डॉट कॉम www.Seervisamaj.com

मेरे प्यारे भाईयों एवं बहनों
सादर जय श्री आईमाताजी की।

सीरवी समाज डॉट कॉम वेबसाइट की और से आप सभी का हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन है। इस माह नवम्बर में दीप पर्व दीपावली, भैया दूज के साथ-साथ कार्तिक पूर्णिमा के देव दीपावली पर्व पर आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें। जैसा कि आप जानते हैं कि दीपों का पर्व दीपावली अंधकार पर प्रकाश की जीत यानी बुराइयों पर अच्छाईयों की जीत के रूप में मनाया जाता है उसी प्रकार हम देवी श्रीलक्ष्मी जी एवं ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि हमारा सीरवी समाज भी बुराई रूपी अंधकार से बहार निकल कर देवव्यमान हो। समाजजनों के जीवन में खुशियाली हो तथा हमारा सीरवी समाज दिनों दिन प्रगति के सोपान पथ पर आगे बढ़ता हुआ अपनी छवि बिखरे।

आज समाज में शांति नहीं है। मेरा तो यह मानना है कि जीवन एवं समाज में शांति पहली आवश्यकता है। इसके बिना स्थिर मन से आप कोई काम नहीं कर सकते। इस संसार में कोई अजर-अमर नहीं है, इसलिए यह सोचना कि समाज हमारे मुठ्ठी में रहे, सही नह..
Posted By : Posted By गोविन्द सिंह पंवार on 26 Aug 2020, 01:13:22
मैसूरु के एक किराणा व्यवसायी मनोहर सीरवी का मानना है की जिस स्त्री का ध्यान मायके की तरफ विशेष हो समझ जाएं उस परिवार में महाभारत निश्चित है। बहुत लोगो का ये तक मानना है कि ज्यादातर तलाक का कारण भी लड़की के माता-पिता होते हैं। पर ये कहाँ तक सही है। मेरा मानना है कि लड़की के माँ बाप हो या लड़के के माँ बाप हो दोनो के अनावश्यक दखलअंदाजी के कारण घर बर्बाद होता है। ससुराल भी लड़की की मायके की तरह बन जाये तो महाभारत की नौबत ही नहीं आएगी। हर बात पर बेटे को बहकाना उसके कान भरना आज बहु ने मेरे साथ ऐसा किया। पति के जीवन मे भी अगर उसकी माँ की ज्यादा भूमिका होती है तो वो घर बिखर जाता है। सास हमेशा अपने बेटे बहु को अलग करने की कोशिश में लगी रहे । अगर सास अपनी बहू के साथ अच्छा व्यवहार करे तो बहू भी ऐसा ही करेगी। अगर ससुराल वाले हर बात पर बहु को टोके नही उसे खुलकर अपने तरीके से जीने दे । शादी के शुरुआत में पति पत्नी को एक दूसरे को समझने में समय लगता है पर सास का हर बात में दखल अंदाजी करना ये बहु को अच्छा नही लगता । और ज्यादातर सास को तो ये डर होता है कि कहीं मेरा बेटा जोरू का गुलाम न बन ज..
Result : 1 - 15 of 31   Total 3 pages