मुख्य पृष्ठ | इतिहास | संपर्क | आपके सुझाव | मुख्य समाचार | फ्री रजिस्ट्रेशन | Login | सीरवी महासभा

सदस्य सूची राज्य के अनुसार
 Andaman & Nicobar
 Andhra Pradesh
 Arunachal Pradesh
 Assam
 Bihar
 Chandigarh
 Chhattisgarh
 Daman & Diu
 Delhi
 Goa
 Gujurat
 Haryana
 Himachal Pradesh
 Jammu & Kashmir
 Jharkhand
 Karnataka
 Kerala
 Madhya Pradesh
 Maharashtra
 Manipur
 Meghalaya
 Mizoram
 Nagaland
 Orissa
 Pondicherry
 Punjab
 Rajasthan
 Sikkim
 Tamil Nadu
 Tripura
 Uttar Pradesh
 Uttaranchal
 West Bengal



राजू सीरवी ’दिल्ली’
(संस्थापक)

Follow Us : Facebook Twitter




 
आज के विचार
लोगों से साथ विनम्र होना सीखे| महत्वपूर्ण होना जरुरी है लेकिन अच्चा होना ज्यादा महत्वपूर्ण है |
Posted On : 02-09-2017   View All
"seervisamaj.com" ( सीरवी समाज डॉट कोम) पुरी दुनिया के सीरवी समाज को आपस मे जोड़ने के रुप मे स्वयं का मंच प्रदान करने वाला एक मात्र विश्वसनीय संगठन है जो समाज की एकता , समस्त संगठनों की योजक कड़ी तथा सभी रजिस्टर्ड संस्थाओं को बढावा देने को ध्यान मे रखकर स्वाभीमानी,संगठित,अनुशासित,व कर्मठ कार्यकर्ताओ के बल पर कार्यरत है ओर राष्ट्रीय द्रष्टीकोण के साथ शिक्षा के विकास , समाज सुधार व विकास के नए आयाम की सोच रखने वाले विद्वानों द्वारा बताए मार्ग पर चलते हुए सम्पूर्ण सीरवी समाज को आपस मे जोड़ना ही हमारा मुख्य उद्देश्य है। हमारी टीम पूर्ण लोकतांत्रिक पद्धति से कार्यरत रहते हुए आपने लक्ष्य की ओर अग्रसर है।

सीरवी समाज का संक्षिप्त परिचय
"सीरवी" एक क्षत्रिय कृषक जाति हैं. जो आज से लगभग 800 वर्ष पुर्व राजपूतों से अलग होकर राजस्थान के मारवाड़ व गौडवाड़ क्षेत्र में रह रही थी. कालान्तर के बाद यह लोग मेवाड़, मालवा, निम्हाड़ व देश के अन्य क्षेत्र में फेल गयें. वर्तमान में सीरवी समाज के लोग राजस्थान के अलवा मध्यप्रदेश , गुजरात , महाराष्ट्र , गोवा , कर्नाटक , आध्रप्रदेश , तमिलनाडु , केरल , दिल्ली , हिमाचल प्रदेश , दमन दीव , पांण्डिचेरी व देश के अन्य क्षैत्र में बड़ी संख्या में रह रहे हैं.

सीरवी समाज के इतिहास का बहुत कम प्रमाण उपलब्ध हैं. इतिहास के जानकार स्व. मास्टर श्री शिवसिंहजी चोयल भावी ( जिला जोधपुर ) वालों ने अपने सीमित सोधनों में जो कुछ भी तथ्य जुटाये उनके आधार पर खारड़िया राजपूतों का शासन जालोर पर था व राजा कान्हड़देव चौहान वंशीय थे उन्ही के वंश 24 गौत्रीय खारड़िया सीरवी कहलाये. सीरवियों के गौत्र इस प्रकार हैं. 1. राठौड़ 2. सोलंकी 3. गहलोत 4. पंवार 5. काग 6. बर्फा 7. देवड़ा 8. चोयल 9. भायल 10. सैणचा 11. आगलेचा 12. पड़ियार 13. हाम्बड़ 14. सिन्दड़ा 15. चौहान 16. खण्डाला 17. सातपुरा 18. मोगरेचा 19. पड़ियारिया 20. लचेटा 21. भूंभाड़िया 22. चावड़िया 23. मुलेवा 24. सेपटा. अधिकतर सीरवी आईमाता के अनुवयी हैं. श्री आईमाता का मंदिर राजस्थान के बिलाड़ा कस्बा में हैं.


सीरवीसमाज डॉट कॉम के मुख्य उद्धेश्य:-
  • समाज के गरीब प्रतिभावना विद्यार्थीयों की सहायता करना।

  • समाज को अन्तर्राष्ट्रीय स्थर पर जोड़ना।

  • शिक्षा हेतु छात्रावासो,विद्यालयो के निर्माण में सहयोग करना।

  • पीड़ित जन समुदाय का सहयोग करना।

  • समाज में शिक्षा के स्थर को बढाने में सहयोग करना।

  • निवेदनः :- आप सभी सीरवी भाईयों से निवेदन है कि आप अपने-अपने सुझाव भेजकर इस वेब साईट को मजबूत बनायें ताकि आपसी सम्पर्क मे उपयोंग ले सके। आप सभी से निवेदन है। कि आप अपने-अपने क्षेत्र की संस्थाओ की पूरी जानकारी rajuseervi@yahoo.com or paheli2003@rediffmail.com को भेजें, या आप कोरियर द्वारा भी भेज सकते हैं। मुझे पूरी आशा है कि आप सभी लोग समाज को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर जोड़ने मे हमारी सहायता करेगे।


       सीरवी समाज के महत्वपूर्ण नम्बर व संस्थाए
  • सीरवी समाज के महत्वपूर्ण नम्बर
  • सीरवी समाज गुजरात राज्य
  • सीरवी समाज महाराष्ट् राज्य
  • सीरवी समाज की बैंगलोर में संथाए
  • सीरवी समाज तमिलनाडु राज्य
  • सीरवी समाज अन्य राज्य
  • अखिल भारतीय सीरवी महासभा
  • सीरवी समाज की पुणे में संथाए
  • सीरवी समाज आंध्र प्रदेश
  • अखिल भारतीय सीरवी समाज डेल्ही
  • View All
       सीरवी समाज मुख्य समाचार

     
    अपने क्षेत्र की खबर पोस्ट करे



    विवाह के लिए पंजीकरण करें
    लड़को की सूची
    लड़कियों की सूची


    पी .पी. चौधरी
    ( सांसद पाली )
    [ Union Minister of State
    Law and Electronics & IT ]





    मुख्य पृष्ठ | इतिहास | संपर्क | आपके सुझाव | मुख्य समाचार | फ्री रजिस्ट्रेशन | Login | सीरवी महासभा