सीरवी समाज - मुख्य समाचार

*कोयम्बटूर/ श्री कृष्ण गौशाला के गौभक्त,प्रमुख आदरणीय श्री पुखराजजी महाराज को कार सप्रेम भेंट
Posted By : 22 Aug 2022, दुर्गाराम पँवार कोयम्बटूर

*कोयम्बटूर/ श्री कृष्ण गौशाला के गौभक्त,प्रमुख आदरणीय श्री पुखराजजी महाराज को कार सप्रेम भेंट ।*
आदरणीय दानवीर भामाशाह ,समाज सेवी,सरल स्वभाव के धनी,गौभक्त,श्री भंवरलाल जी परिहार मूलनिवासी /गूजरों का बरालिया, गांव बगड़ी नगर,तहसील सोजत,पाली।
वर्तमान /कोयम्बटूर सिटी ने श्री कृष्ण गौशाला के प्रमुख, गौभक्त आदरणीय श्री पुखराज जी महाराज को कार सप्रेम भेंट की,यह एक ऐतिहासिक देखने को मिल रहा है, आदरणीय पुखराज जी महाराज के लिए पिछले कई महीनों से विषय चर्चा में रहा जो जितने भी महाराज के अनुयायी है उन्होंने कहा कि महाराज के लिए एक कार की व्यवस्था हो जो समाज व अन्य समुदाय के लोग जब भी महाराज को आमंत्रित करते है तब आने जाने की यात्रा कार्यक्रम में महाराज को दिक्कत होती रही , अब वो घड़ी खत्म हुई।एक ही भक्त ने महाराज के लिए कार देकर आने जाने की यात्रा के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवा दी।। हालांकि महाराज ने मना भी किया पर भक्तों ने महाराज को मना कर आदरणीय श्री भंवरलाल जी परिहार ने अपनी ओर से कार सप्रेम भेंट की। जो समाज के लिए बड़ी उपलब्धि है।आदरणीय भंवरलाल जी उनके सुपुत्र श्री सुरेश कुमारजी /परिवार के साथ श्री कृष्ण गौशाला जाकर महाराज को ये कार भेंट कर आशीर्वाद प्राप्त किया।
आदरणीय भंवरलाल जी परिहार ने कहा कि ये सब माताजी कृपा, आशीर्वाद ओर महाराज जी के मार्गदर्शन ओर आशीर्वाद से हुआ है। महाराज के आशीर्वाद से हम सुख,सम्पन्न और अच्छी प्रगति के साथ महाराज का सदैव आशीर्वाद प्राप्त भी है।इसके वजह से आज ये शुभ कार्य हुआ। आदरणीय श्री पुखराज महाराज ने भंवरलाल जी उनके परिवार को आशीर्वाद देकर कहा कि माताजी का हुक्म आपके द्वारा रहा जो आज आप श्री कृष्ण गौशाला आकर हमे कार प्रदान की। आपके घर मे सदैव सुख,संपति ओर खूब प्रगतिशील रहे आपका परिवार ।।आदरणीय श्री पुखराज जी महाराज ने यह भी कहा कि समाज के हर परिवार को जँहा जँहा आप रहते हो वँहा की नजदीकी गौशाला में पूरे परिवार के साथ जाकर गौमाता का आशीर्वाद लेकर गौभक्त के रूप में गौमाता के लिए शुभ कार्य करना चाहिए ताकि गौमाता व भगवान श्री कृष्ण का सदैव आपके परिवार पर आशीर्वाद बना रहेगा।। हाल ही में गौमाता के लिए बड़ी बीमारी आई जो हमे चिंता व मंथन के लिए विवश कर दिया इसके लिए हमे सदैव गौमाता के लिए आगे आकर दान पुण्य में कमी नही रखनी चाहिए, जय श्री आईजीl
प्रस्तुति/दुर्गाराम पँवार कोयम्बटूर