सीरवी समाज - मुख्य समाचार

सीरवी समाज के इतिहास में पहली बार गौरव की बात श्री आई माता महाविद्यालय सोजत सिटी बना श्री आई माता राजकीय कन्या महाविद्यालय सोजत सिटी*
Posted By : 22 Aug 2021, दुर्गाराम पंवार कोयम्बटूर

*सीरवी समाज के इतिहास में पहली बार गौरव की बात श्री आई माता महाविद्यालय सोजत सिटी बना श्री आई माता राजकीय कन्या महाविद्यालय सोजत सिटी*

श्री आई माता जी की असीम कृपा से श्री आई माता स्ववितपोषित महाविद्यालय सोजत सिटी जो कि सन 2003 में राजस्थान सरकार के पूर्व मंत्री एवं सीरवी समाज के धर्मगुरु दीवान श्री माधव सिंह जी द्वारा स्थापित किया गया | दीवान माधव सिंह जी ने यह महाविद्यालय उन परिस्थितियों में सोजत में खुलवाया , जब सोजत क्षेत्र की जनता को कॉलेज की भरपूर मांग थी। इस महाविद्यालय का उद्देश्य छात्र-छात्राओं को कम से कम शुल्क मे अर्थात् छात्रों को 2003 में 1800 ₹ मात्र तथा छात्राओं को 1100 ₹ फीस में शिक्षा प्रदान करना था । महाविद्यालय गत 18 वर्षों से सोजत नगर में चलयमान है महाविद्यालय के भवन हेतु दीवान साहब ने mlA फंड से ₹1000000 (दस लाख) व भवन निर्माण हेतु स्वीकृत करवाया। उसके पश्चात 2008 में दीवान साहब ने सांसद कोष से 600000 छह लाख भवन निर्माण हेतु और स्वीकृत करवाये। दीवान साहब ने 2003 मे महाविद्यालय रूपी पौधे का पौधा रोपण किया उस पौधे को प्राचार्य डॉ. दलवीर सिंह जी राणावत एवं उनके समस्त सहयोगी अध्यापक गण ( डॉ ललित जी,नरेश जी, मूकेशजी,नरेन्द्र जी व राजुदेवी ने सीचकर आज यौवनावस्था में लाकर खड़ा किया। इस महाविद्यालय के खुलने के पश्चात अनेक विषम परिस्थितियों का सामना करना पडा । महाविद्यालय के छात्रों की फीस कम होने व महाविद्यालय कोष में पैसा भी आवश्यकता अनुसार उपलब्ध नहीं था। उस समय सबसे बड़ी समस्या पीने का पानी था उस समय महाविद्यालय के आसपास कोई भी पानी की प्याऊ व कुआ उपलब्ध नहीं था हमने सोजत की मेहंदी उद्यमी श्री चुत्राराम जी गहलोत से आग्रह किया इन्होंने जल्द ही महाविद्यालय मैं पांच लाख की लागत से पानी की प्याऊ बना दी। दूसरी प्रमुख समस्या महाविद्यालय में बिजली की समस्या थी उस समय महाविद्यालय में 1000-1500 के बीच छात्र परीक्षा देने आते थे तो छात्रों को गर्मियों में बिना पंखके काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था महाविद्यालय की पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष राकेश सीरवी(अटबडा) का महाविद्यालय के प्रति विशेष सहयोग रहा। इन्होंने मोहन सिंह जी ( रेदंडी ) वालों से भेंट कर महाविद्यालय में बिजली बिजली फिटिंग करवाई। उनके बाद इन्होंने जयराम जी व प्रेम मुलेवा % शिम्मुरामजी जी मुलेवा (मुलेवा का अरट उचियार्डा बिलाडा ) द्वारा महाविद्यालय में 20 छत पंखे की भेंट करवाएं। उनके बाद चुन्नीलालजी सीरवी % मूलाराम जी ( खीमेल रानी ) द्वारा महाविद्यालय में प्राचार्य टेबल 18000/ भेंट करवाई । । महाविद्यालय के पूर्व छात्र हनुमान सीरवी ( बांसिया) ने 15000 देकर व 7000 समस्त महाविद्यालय स्टाफ द्वारा इकट्ठा कर महाविद्यालय की तारबंदी व फाटक लगाई उसके बाद महा विद्यालय में वृक्षारोपण करवाया गया। 2019 सन में महाविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष प्रकाश जी मुलेवा ( बगड़ी नगर ) ने 48000 मैं पूरे महाविद्यालय में भवन की रंग रोगन( कलर ) करवाया गया। मनीष पालरिया प्रकाश जी मुलेवा द्वारा अलमारी भेट की गई पूर्व छात्र तेजाराम जी पालरिया द्वारा महाविद्यालय की मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाई। सीरवी संपूर्ण भारत डॉट कॉम वेबसाइट के सदस्यों द्वारा पोटेबल भेट की (2019 ) अभी महाविद्यालय को सांसद कोष से 13 लाख रुपए और स्वीकृत किए गए हैं जिससे एक हॉल का निर्माण किया जाएगा इसमें सांसद महोदय पी पी चौधरी साहब व उनके P. A , D. R साहब का विशेष योगदान रहा है महाविद्यालय भवन निर्माण के लिए पैसे जुटाने व अन्य समस्याओं में हमेशा सहयोग जुटाने में दीवान साहब के विशेष माने जाने वाले श्री भरत सिंह जी (सरदारपूरा )का विशेष योगदान रहा। अतः इन समस्याओं को और विषम परिस्थितियों को मात देते हुए यह महाविद्यालय आज राजकीय कन्या महाविद्यालय हुआ है। इसमें धर्मगुरु दीवान माधव सिंह जी का आशीर्वाद तथा राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव श्रीमान निरंजन आर्य साहब के अथक प्रयासों से ही यह महाविद्यालय आज फल फूल कर श्री आई माता राजकीय कन्या महाविद्यालय सोजत हो पाया है। अतः यह उच्च शिक्षा के छात्रा में पूरे हिंदुस्तान में एकमात्र श्री आई माता राजकीय कन्या महाविद्यालय स्थापित हुआ है जो की प्रथम राजकीय महाविद्यालय होगाजिनका नाम श्री आई माताजी के नाम पर रखा गया है जो सीरवी समाज के लिए यह गर्व की बात है इस महाविद्यालय रूपी पौधा को जो धर्मगुरु दीवान माधव सिंह जी द्वारा सोजत धरा पर रोपित किया गया उसे सिंचित करने में सर्वाधिक योगदान महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ दलवीर सिंह जी राणावत साहब ने निस्वार्थ भाव से इस पौधे को आज एक वटवृक्ष बनाया है। ये जानकारी श्री राकेश जी सुपुत्र श्री बाबूलाल जी पंवार अटबड़ा द्वारा दी गई। ज्यादा जानकारी के लिए आप उनसे सम्पर्क कर सकते है।मोबाइल नंबर/8504911401
संकलनकर्ता/दुर्गाराम पंवार कोयम्बटूर तमिलनाडु।