सीरवी समाज - मुख्य समाचार

 सुश्री उषा परिहारिया सुपुत्री श्री अचलाराम जी सीरवी
Posted By : Manohar Seervi 30 Nov 2020, 11:13:04

किसी कवि ने क्या खूबलिखा है कि --
\'\'बिना काम के मुकाम कैसा?
बिना मेहनत के, दाम कैसा ?
जब तक ना हासिल हो मंजिल,
तो राह में, रही आराम कैसा ?
यह हर उस व्यक्ति के लिए सफलता का बड़ामूलमंत्र है जो पुरुषार्थ को साथ लेकर दॄढ इरादों से मंजिल की धुन में आगे बढ़ते रहते है। ऐसे व्यक्ति ही जीवन में सफलता को अर्जित करते है और वे अपने सपने कोसाकार कर जाते है।

सरल सौम्य स्वभाव, स्पष्ट वक्ता, व्यवहारकुशल,प्रखर प्रवक्ता, न्यायप्रिय,सांस्कृतिक कार्यक्रमो में रुचि,खेलप्रेमी,शिक्षावद,संस्कृतिसंस्कार, धार्मिकप्रवृति सुश्री उषा परिहारिया का जन्म 3 मई, 2002 को राजस्थान मैं पाली जिले की सोजत तहसील के अंतर्गत आने वाले वाडिया बेरा बिलावास गांव के साधारण किसान परिवार मैं हुआ। पिता के लाड़ प्यार एवं माता श्री लक्ष्मी देवी जी के स्नेही आंचल मैं संस्कारों की लोरी सुनकर पल्ली बड़ी सुश्री उषा परिहारिया सीरवी चार भाई बहनों मैं सबसे छोटी हैं। आपके बड़े भाई श्री ललित परिहारिया वर्तमान बेंगलुरु में व्यवसायी है एवं बड़ी बहनें मैना सीरवी एवं सेणी सीरवी बेंगलुरु मैं अपना पारिवारिक दायित्व निभा रही हैं। आपकी प्रारंभिक पढ़ाई राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय बिलावास से पूर्ण हुई! एवं आगे की पढ़ाई जयपुर से कर रही हैं एवं बचपन से ही खेलना कूदना गाना नित्य करना एवं शरू से प्रतिदिन डायरी लिखने मैं भी रुचि है। एवं 7th क्लास से क्रिकेट मैं रुचि लेने लगीं। तथा घरेलू टूर्नामेंट एवं गली क्रिकेट खेला करती थीं। बचपन से ही बुलंदियों को पाने की चाहत में आपने क्रिकेट मैं अपना कैरियर बनाने का फैसला किया। एवं गांव में अत्यधिक सुविधा ना मिलने की वजह से आपने अपनी क्रिकेट की प्रैक्टिस के लिए अपने भाई श्रीललित परिहारिया के पास बेंगलुरु चली आई। एवं कहीं आर्थिक पारिवारिक एवं सामाजिक कठिनाइयों का सामना करते हुई भाई श्री ललित ने आपका चयन बेंगलुरु की नंबर 1 क्रिकेट एकेडमी KIOC मैं करवाया। आपकी कड़ी मेहनत और परिश्रम से 2019 मैं आपका चयन राजस्थान के राज्य स्तरीय अंडर 19 महिला क्रिकेट टीम मैं सिलेक्शन हुआ। साथ ही under-23 एवं सीनियर रणजी कैंप मैं भी चयन हुआ। राजस्थान  टीम में शरू से ही अच्छी परफॉर्मेंस रही आने वाले समय मे इसी तरह से प्रदर्शन रहा तो माताजी के आशीर्वाद से राष्ट्रीय स्तर पर जरूर चयन होगा  एवं फिटनेस मैं भी एक अच्छी ऑल राउंडर एथलीट का दर्जा भी प्राप्त किया। साथ ही सामाजिक कार्यक्रमों में भी सांस्कृतिक में शानदार प्रदर्शन रहा व शुरू से नृत्य में शौक रहा जो राजस्थानी कलाकारों द्वारा दो बार ऑफर भी आया पर क्रिकेट की व्यवस्ता से पार्टिसिपेट कर नही सकी। जन्हा तक मेरी जानकारी है हमारी सीरवी समाज मे ये प्रथम महिला क्रिकेटर बनकर राज्य स्तर पर खेल कर अपनी समाज मे नाम अंकित किया व वर्तमान में भी अभी बेंगलुरु में कड़ी मेहनत से अकेडमी में प्रक्टिस चल रही है। हम सभी समाजी बंधुओं की ओर से माताजी से प्राथना करते हैं व दुआ करते है जल्दी ही इस बेटी का चयन राष्ट्रीय स्तर पर हो व अपना शत प्रतिशत प्रदर्शन से अपनी ओर से क्रिकेटर के रूप में छाप छोड़ सके। हमे इस बेटी के लिए गर्व व नाज है जो समाज का नाम रोशन किया व गौरवान्वित।

प्रस्तुति:- सीरवी समाज डॉट कॉम सह सम्पादक , सीरवी समाज सम्पूर्ण भारत डॉट कॉम सहयोगी सदस्य, राष्ट्रीय सीरवी किसान सेवा समिति राष्ट्रीय अध्यक्ष / दुर्गाराम पंवार कोयम्बटूर तमिलनाडु