सीरवी समाज - मुख्य समाचार

शुरुआत कही से भी हो सकती है, चाहिए सिर्फ एक संकल्प - कानजी राठौड़
Posted By : Manohar Seervi on 02 Jul 2019, 06:38:57

बिलाडा : - श्री आइमाताजी के प्रमुख धाम धर्म नगरी बिलाडा में धर्मगुरु माधव सिंह दीवान के भाईपा परिवार कंवरा भंवरा राठौड़ परिवार के मोहल्ले में परिवार के लोगो ने समूचे मोहल्ले के लिए जो सकारात्मक कार्य किया है उसकी गूंज आज चारो और फ़ैल रही है, तकरीबन सवा सौ परिवारों के इस मोहल्ले में कंवरा भंवरा राठौड़ ग्यारह परिवार के महिला बुजुर्गो ने अपने घरो के सामने स्थित तकरीबन ग्यारह हजार स्कवायेर फूट के चौक (जहा आये दिन दर्जनों आवारा पशुओ का जमावड़ा रहता था, एवं गन्दगी पसरी पड़ी रहती थी ) को एक आदर्श चौक में तब्दील कर दिया, सीरवी समाज के इन परिवारों ने पूर्व में भी सबसे शांत और आदर्श मोहल्ले की छाप समूचे बिलाडा में छोड़ रखी है, अपना घर तो सभी साफ़ और स्वच्छ रखते है, किन्तु इस मोहल्ले के निवासियों ने अपने मोहल्ले को एक आदर्श मुकाम तक पहुचाने में निरंतर एक दुसरे का सहयोग किया है l
यहाँ तकरीबन हर परिवार का कम से कम एक सदस्य चाहे वह स्त्री हो चाहे पुरुष सरकारी सेवा में है, शिक्षा का स्तर इस मोहल्ले में सर्वाधिक है, तकरीबन पांच सौ से अधिक आबादी वाले इस मोहल्ले में सफाई व्यवस्था सभी महिलाए अपनी जिम्मेदारी मान कर करती है l
मोहल्ले के वरिस्ट नागरिक सेवा निवृत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कानजी राठौड़ एवं सेवा निवृत रीडर न्याय विभाग मोहन सिंह राठौड़ के नेतृत्व में मोहल्ले के बच्चे औरते और युवा हर तरह से स्वच्छंद रूप से एक दुसरे के साथ हिलमिलकर खेलो, योग, भ्रमण में साझा भागीदारी निभाते है l
स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन बसता है की कहावत चरितार्थ रूप से मानने वाले कानजी राठौड़ का कहना है की परिवार में स्वास्थ्य के मामले में महिलाओं बहो बच्चो युवाओं को सिर्फ इकाई मान कर सुविधाओं का संचालन होना चाहिए उनमे किसी भी प्रकार का भेदभाव किसी अच्छे समाज का निर्माण करने से वंचित करने जैसा है l
इस परिवार के सदस्यों में सेवा निवृत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कानजी राठौड़ एवं सेवा निवृत रीडर न्याय विभाग मोहन सिंह राठौड़, पूर्व पालिकाध्यक्ष मदन सिंह राठौड़, कृषि मंडी व्यापार मंडल अध्यक्ष महेंद्र सिंह राठौड़, व्याख्याता चेतना राज, वरिस्ट अध्यापक गोपाल सिंह, के साथ साथ मोहल्ले के व्याख्याता सम्पतलाल, प्रधानाचार्य गिरधारी सिंह, व्यापारी दिनेश, राजेश भायल (हेदराबाद), नरेन्द्र सिंह, करण सिंह नेम सिंह हनुमान सिंह, महेंद्र विरेन्द्र सुरेन्द्र सिंह (चेन्नई), टिम्बर व्यापारी गजे सिंह, नरेन्द्र गारिया, वरिस्ट अध्यापक जीवन सिंह, अध्यापक जसवंत कंवर, अध्यापक रोहिताश, वरिस्ट अध्यापक मोनिका, व्याख्याता इन्द्रा राठौड़, आदि के नेतृत्व में हर सामाजिक रीती रिवाज और सामुदायिक प्रबंधन के वर्तमान समय अनुसार इनोवेशन के नए नए आयाम विकसित किये जाते रहे है l