सीरवी समाज - मुख्य समाचार

सीरवी समाज जोधपुर ने किया हमारे समाज के मेधावी छात्र “श्री दीपेंद्रसिंह चोयल” का हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन
Posted By : Posted By ओमप्रकाश सीरवी पंवार on 09 Jun 2019, 09:05:52

*श्री दीपेंद्रसिंह चोयल पुत्र श्री तेजाराम जी सीरवी,* इन्द्रप्रस्त नगर, नांदड़ी, बनाड़ रोड़, जोधपुर मू.नि. बेरा चोयलो का जुना मगरिया, बिलाड़ा ने कक्षा 10वी. CBSE बोर्ड परीक्षा मे 10 CGPA (95-100 प्रतिशत) तथा 12CBSE बोर्ड परीक्षा मे 95.40 प्रतिशत अंक प्राप्त कर पूर्व मे ही सफलता के शुभ संकेत दे दिये तथा हाल ही *National Eligibility Cum Entrance Test (NEET UG-2019) परीक्षा मे समस्त भारत मे “Over All 25वीं रैंक” व “OBC वर्ग मे तीसरी रैंक”* प्राप्त कर अखिल भारतीय सीरवी समाज का नाम रोशन किया है।

श्री दीपेन्द्रसिंह चोयल NEET UG परीक्षा मे समस्त भारत मे “All Over 25वी रैंक” व “OBC वर्ग मे तीसरी रैंक” प्राप्त करने वाले सीरवी समाज के प्रथम छात्र है।

इस खुशी मे “श्री आईमाता सीरवी सेवा संस्थान जोधपुर” के अध्यक्ष महोदय सहित निम्नलिखित गणमान्य स्वजातीय बन्धुओं ने नान्दड़ी स्थित प्रतिभा श्री दीपेन्द्रसिंह चोयल के घर उपस्थित होकर इस राष्ट्रीय स्तर की उपलब्धि के अवसर पर माल्यार्पण कर प्रतिभा का मुंह मीठा करवाकर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन किया।


उपस्थित सदस्यगणः-
श्री मेघाराम सेणचा (उपायुक्त, GST)
श्री भंवरुराम (सहा.अधीक्षक, पोस्ट)
श्री जयराम लालावत (लेखाधिकारी)
श्री चुतराराम लालावत (सहायक लेखाधिकारी)
श्री मोहनलाल काग (सेवानिवृत सुबेदार-आर्मी)
श्री माधुराम चोयल (एकलव्य ऐकेडमी)
श्री अणदाराम पंवार (अध्यापक)
श्री दुर्गाराम जाजांवत (जय अम्बे ट्रेडर्स)
श्री मानाराम बर्फा (RCC Contector)
श्री गोपाराम पंवार (SBI Life Insurance)
श्री रतनलाल हाम्बड़ (यातायात पुलिस)
श्री प्रकाशचन्द बर्फा (कमाण्डो)
श्री रतनलाल सैणचा (अध्यापक)
श्री जगदीश बर्फा (व.अध्यापक)
श्री रुपाराम राठौड़ (वेटेनरी)
श्रीमती ईन्द्रादेवी राठौड़
श्री दिलीप राठौड़
ओमप्रकाश पंवार


*डिगे नहीं तुम, झुके नहीं यशस्वी,*
*बाधाओं-विपदाओं को पार किया।*
*सर ऊंचा रखा सीरवी समाज का,*
*माथे पर विजयश्री का तिलक किया।*

उपरोक्त पंक्तियों का साकार करने एवं इस आत्म विभोर कर देने वाली खुशी पर संस्थान के अध्यक्ष महोदय “श्रीमान् मेघाराम जी सेणचा” साहब ने प्रतिभा का मान-सम्मान कर फरमाया कि..
शिक्षा के क्षेत्र में जनजागृति व नवचेतना से हमारा सीरवी समाज नित नये आयामो को छूता हुआ नजर आ रहा है। इस वर्ष CBSE एवं माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (कक्षा 10 वीं एवं 12वीं) का परीक्षा परिणाम भी सीरवी समाज के लिए हर्ष एवं प्रसन्नता लेकर आया है, जिसमे हमारे समाज की बेटियों भी अव्वल रही है।
21वी शताब्दी में परिवार, समाज एवं राष्ट्र का सर्वांगीण विकास शिक्षा से ही सम्भव होगा।

प्रतिभा सम्मान के दौरान..
लेखाधिकारी महोदय *श्री जयराम जी लालावत साहब* ने फरमाया कि
कड़ी मेहनत कभी थकान नहीं लाती, बल्कि सन्तोष लाती हैं तथा परिश्रम के पसीने से जब सफलता की फसल खिलती है, तब किसी एक से नहीं बल्की पूरे जमाने से बधाइयां मिलती है।
उन्होंने कहा कि बिना लक्ष्य के जीने वाले इंसान की जिंदगी अमीर नही होती, जब मिल जाती है सफलता, तो यह सबसे बड़ी जागीर होती है।
इसलिए आज के युग में शिक्षा ही जीवन की परिभाषा है निरंतर मेहनत करने वाले ही अपनी मंजिल प्राप्त कर सकते है। समाज में शिक्षा की स्थिति में उत्तरोत्तर सुधार हो रहा है।

सहा. अधीक्षक महोदय, पोस्ट, जोधपुर- *श्रीमान् भंवरुराम जी राठौड़ साहब* ने प्रतिभा को आर्शिवचन फरमाया कि
शिक्षा, ज्ञान और कौशल के माध्यम से हमारे जीवन के सुसंस्कृत व्यक्तित्व का निर्माण होता है तथा शिक्षा व्यक्ति के जीवन में लक्ष्य को निर्धारित कर सभ्य मनुष्य बनाने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए वर्तमान और भविष्य को पोषित करती है।

प्रतिभा सम्मान के अवसर पर दीपेन्द्रसिंह चोयल के *दादाजी श्री हापुराम जी चोयल व दादीजी श्रीमती केलीदेवी* भी उपस्थित सादर हुए तथा अपने दोनो हाथो से अपने लाडले पोत्र को सफलता की शुभआशीष देते हुए फरमाया कि यह हमारे जीवन की सबसे बड़ी खुशी है तथा इस खुशी का इन्तजार हर इन्सान को रहता है, बच्चो की सफलता से ही हमारे जीवन की सार्थकता सिद्ध होती है।

भारतीय सेना मे “शिक्षा सुबेदार” के पद तैनात दीपेन्द्रसिंह चोयल के पिता *‘श्री तेजाराम जी चोयल साहब’* ने सीरवी समाज जोधपुर का आभार व्यक्त करते हुए फरमाया कि विद्यार्थियों के मन में अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए सच्ची लगन लग जाए तो प्रतिकूल परिस्थितियां / बाधाएं भी अपने आप ही अनुकूल अथवा समाप्त हो जाती है अर्थात परिश्रम ही सफलता की कुंजी है।


इसी के साथ प्रतिभा *“श्री दीपेन्द्र चोयल”* ने अतिथियों का स्वागत करते हुए उपरोक्त उपलब्धि का मुख्य श्रेय अपनी माता “श्रीमती मंजु चोयल” को देते हुए बताया कि मेरी माँ ने अध्ययन के दौरान मुझे दिन के साथ रात्रि एवं प्रातःकाल मे जल्दी जगाकर मेरा लालन-पालन करते हुए मुझे आलस्य से सदैव दूर रखा तथा मेरे पिताजी ने मुझे शिक्षा के महत्व को समझाते हुए दृढ शक्ति प्रदान की, जिससे मैं अपने मन में दृढ़ इच्छाशक्ति और संकल्प लेकर माँ सरस्वती एवं श्री आईमाताजी की असीम कृपा से इस मंजिल तक पहुँचा तथा आज आ7प सभी के आशिर्वाद से मेरे लक्ष्य एवं मनोबल को ओर अधिक मजबूती प्रदान हुई है।

उपस्थित अतिथियों ने हमारे समाज की तेजस्वी प्रतिभा ‘श्री दीपेन्द्रसिंह चोयल’ को अपने लक्ष्य पर विजयी प्राप्त कर उच्च प्रशासनिक पद पर चयन होने की शुभकामनाओं के साथ पुनः हार्दिक बधाई दी।

प्रतिभा के पिता श्री तेजाराम जी चोयल साहब ने प्रतिभा के सम्मान मे पधारे हुए अतिथिगणो का आदर सत्तकार कर इस कार्यक्रम को अन्य विद्यार्थियों के लिए प्रेरणात्मक बताते हुए आभार व्यक्त कर धन्यवाद ज्ञापित किया।