सीरवी समाज - मुख्य समाचार

गुरु पूर्णिमा पर मंदिरों और आश्रमों में भक्तों की रही भीड़, लिया गुरुजनों का आशीर्वाद, मंदिरों में भजन-कीर्तन, दोपहर बाद हुए मंदिरों के पट बंद
Posted By : Posted By Manohar Seervi Rathore on 28 Jul 2018, 01:49:08
गुरु पूर्णिमा पर चंडावल में हुई भजन संध्या

चंडावल. गुरु पूर्णिमा के मौके पर स्वामी वासुदेव महाराज की समाधि स्थल पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने मत्था टेककर श्रद्घा सुमन अर्पित किए। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शुक्रवार अलसुबह से ही गुरुभक्त वासुदेव महाराज व गुरु दरियावनाथ महाराज के मंदिर में विराजित मूर्तियों की विशेष पूजा-अर्चना कर महाआरती की गई। इस दौरान महाप्रसादी का भी आयोजन किया गया। इस मौकेे संत जगन्नाथ महाराज, विधायक संजना आगरी, भाजपा जिला उपाध्यक्ष गिरवरसिंह राठौड़, पूर्व आईजी पुखराज सीरवी, ट्रस्ट अध्यक्ष बाबूलाल आगलेचा, सचिव जगाराम सीरवी, सरपंच किरण राजेंद्र कागट, बीएसएफ कमांडर कुलदीप सीरवी, सुभाष पारीक बोयल, शैतानराम देवासी,शांतिलाल वैष्णव,हरीशभाई सोनी पूना आदि उपस्थित थे। गुरु पूर्णिमा की पूर्व संध्या पर गुरुवार को एक शाम वासुदेव महाराज के नाम भजन संध्या का आयोजन किया गया। भजन संध्या का आगाज पंडित पीयूष त्रिवेदी ने गणपति वंदना व गुरु वंदना से किया। इसके बाद उन्होंने ब्रह्मलीन वासुदेव महाराज की भक्ति से ओतप्रोत एक से बढ़कर एक भजनों की प्रस्तुति दी।

गुरु पूर्णिमा पर हुए कई आयोजन, गुरु वंदन कर शिष्यों ने लिया आशीर्वाद

देसूरी | गुरु पूर्णिमा महोत्सव को लेकर शुक्रवार को दिनभर मंदिरों में भक्तों का तांता लगा रहा। इससे पूर्व देसूरी के अन्नपूर्णा हनुमान मंदिर के महंत लक्ष्मणदास महाराज के सानिध्य में गुरु पूर्णिमा महोत्सव धवल मंगलेश्वर महादेव मंदिर में आयोजित किया गया। इस दौरान कांग्रेस खनिज प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. दुर्गासिंह राठौड़, समाजसेवी जसाराम सोलंकी, चंद्रशेखर मेवाड़ा ,हिम्मत सोलंकी, चैनाराम चौधरी,नेमाराम चौधरी,पंडित अशोक दवे आदि मौजूद थे। इसी तरह से बिलेश्वर महादेव मंदिर के महंत की कैलाश पुरी महाराज के सानिध्य में गुरु पूर्णिमा महोत्सव आयोजित किया गया।

गुरुजनों ने श्रद्धालुओं से अपनी एक-एक बुराई छोड़ने का संकल्प दिलाया

गुंदोज | गांव में गुरु पूर्णिमा के दिन ग्रामीणों ने चंदा एकत्रित करके राजकीय बालिका माध्यमिक विद्यालय, सेंट द्रोण स्कूल, वंदे मातरम स्कूल के छात्रों को खीर-पूडी खिलाने का कार्यक्रम हुआ। इस अवसर पर प्रधान श्रवण बंजारा, समाजसेवी मदनलाल प्रजापत, भंवरलाल सीरवी, भरतसिंह राठौड़, भंवरसिंह राजपूत, देवीदास आदि उपस्थित थे।